Home » Amazing facts » विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया जाता है? और क्यों? World Malaria Day 2021 theme in hindi
मादा एनोफिलिस मच्छर

विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया जाता है? और क्यों? World Malaria Day 2021 theme in hindi

मच्छरों के काटने से मलेरिया, डेंगू जैसे रोग हो जाते हैं। कई बार तो ये घातक भी साबित होते हैं। तो चलिए वर्ल्ड मलेरिया डे के अवसर पर इनसे जुड़ी जानकारियाँ लेते हैं। कैसे होता है मलेरिया? विश्व मलेरिया दिवस क्यों मनाया जाता है? विश्व मलेरिया दिवस 2021 का थीम क्या है?

कब मनाया जाता है विश्व मलेरिया दिवस?

हर साल अप्रैल महीने के 25 तारीख़ को यह दिवस मनाया जाता है।

पहली बार विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया गया?

25 अप्रैल 2008 को यूनिसेफ (UNICEF) के द्वारा पहली बार विश्व मलेरिया दिवस मनाया गया।

कैसे होता है मलेरिया?

यह तो हम सभी जानते हैं की मच्छरों के काटने से होता है मलेरिया। पर यह नहीं जानते होंगे कि सभी तरह के मच्छरों के काटने से नहीं होता है मलेरिया। सिर्फ़ मादा मच्छर के काटने से होता है मलेरिया। इस मादा मच्छर का नाम है- एनॉफिलीज मच्छर। मादा एनॉफिलीज मच्छर प्रोटोज़ोऑन प्लासमोडियम नामक कीटाणु का वाहक होती है। यही कीटाणु मलेरिया का कारण बनती है।

मलेरिया के प्रकार:

सामान्यतः मलेरिया दो प्रकार के होते हैं:

  1. अनकम्प्लीकेटेड मलेरिया और
  2. सीवियर मलेरिया

यह जानकर आपको आश्चर्य होगा की मादा मच्छर एक बार में 300 से भी अधिक अंडे देती है।

विश्व मलेरिया दिवस का इतिहास

विश्व मलेरिया दिवस की शुरुआत कब हुई?

यूं तो मलेरिया दिवस की शुरुआत अफ्रीका में हुई थी। हर साल 25 अप्रैल 2001 से 2007 तक अफ़्रीका मलेरिया दिवस यानि Africa Malaria Day के रूप में मनाया जाता था।

मई 2007 में World Health Organisation की वर्ल्ड हेल्थ असेंबली ( World Health Assembly ) के 60 वें अधिवेशन में सर्वसम्मति से यह पारित किया गया कि, 2008 से प्रत्येक वर्ष 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस के रूप में मनाया जायेगा। इस दिन को ‘ मलेरिया की समझ एवं शिक्षा’ के प्रचार- प्रसार के लिए ठहराया गया।

क्या विश्व मलेरिया दिवस और विश्व मच्छर दिवस एक ही हैं?

नहीं! आपको बता दें कि विश्व मच्छर दिवस हर साल 20 अगस्त को मनाया जाता है। यह दिवस ब्रिटिश डॉक्टर सर रोनाल्ड रॉस की याद में मनाया जाता है।

World Malaria Day 2021 theme in hindi

  • विश्व मलेरिया दिवस 2021 का थीम है- Reaching the zero malaria target. यानि ” शून्य मलेरिया लक्ष्य तक पहुंचना “
  • पिछले वर्ष 2020 का थीम था- Zero malaria starts with me ” यानि शून्य मलेरिया की शुरुआत मुझसे “

अब हमें मलेरिया के लक्ष्णों को भी जान लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें: क्यों मनाया जाता है विश्व रक्तदाता दिवस

मलेरिया बुखार के लक्ष्ण क्या हैं?

  • संक्रमित व्यक्ति को तेज़ सरदर्द की शिकायत होती है
  • उलटी या मितली के लक्षण भी दिखते हैं
  • बार- बार बुखार चढ़ता- उतरता है
  • कंपकपी के साथ बुख़ार आता है
  • मुँह सूखता है और बारंबार प्यास लगती है
  • हाथ- पैर में ऐंठन महसूस होती है
  • कमज़ोरी और थकान महसूस होता है
  • संक्रमित व्यक्ति को बेचैनी होती है

मलेरिया से बचाव के कुछ उपाय

जल जमाव न होने दें
जल- जमाव में ही मच्छर पनपते हैं
  • मूल- मन्त्र अपने आस- पास सफ़ाई रखें
  • अपने आस- पास जल जमाव न होने न दें, क्योंकि इसी में मच्छर उत्पन्न होते हैं
  • कीटाणुनाशक का छिड़काव करें
  • बरसात में गमलों, टायरों आदि में पानी जमा होने न दें
  • सोते वक़्त मच्छरदानी का जरूर प्रयोग करें
  • मच्छर मारने वाले स्प्रे, कोइल आदि का प्रयोग करें

सार यही है कि मच्छरों से बचने का पूरा प्रयास करें

उपसंहार

हमने जाना मलेरिया दिवस लोगों को साफ़- सफ़ाई और बीमारी के प्रति जन – जागरूकता फ़ैलाने के लिए मनाया जाता है। अतः आप भी स्वच्छता रखें और और मलेरिया से सुरक्षित रहें।

2 thoughts on “विश्व मलेरिया दिवस कब मनाया जाता है? और क्यों? World Malaria Day 2021 theme in hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.