अप्रैल माह के प्रमुख दिवस

अप्रैल माह के प्रमुख दिवस- प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उपयोगी Important Days in April in Hindi

List of Important Days in April in Hindi

अप्रैल के महीने में कई दिवस मनाये जाते हैं। ये अप्रैल माह के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय दिवस, प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

चलिए! April mah ke pramukh divas पर नज़र डालते हैं :

दिन/ तिथि प्रमुख दिवस Importance of the Day
1 अप्रैल ओडिशा स्थापना दिवस
अंधेपन की रोकथाम सप्ताह (1 से 7 अप्रैल)
अप्रैल फूल्स डे (मूर्ख दिवस )
Odisha Foundation Day
Prevention of Blindness week (1- 7 April)
April Fools’ Day
2 अप्रैल विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवसWorld Autism Awareness Day
4 अप्रैल अंतर्राष्ट्रीय खदान जागरूकता दिवसInternational Day for Mine Awareness
5 अप्रैल राष्ट्रीय समुद्री दिवसNational Maritime day
7 अप्रैल विश्व स्वास्थ्य दिवसWorld Health Day
10 अप्रैल विश्व होम्योपैथी दिवस
सिबलिंग डे (भाई- बहन दिवस)
World Homeopathy Day
Siblings Day
11 अप्रैल राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस
राष्ट्रीय पालतू दिवस
National Safe Motherhood Day
National Pet Day
13 अप्रैल जलियांवाला बाग नरसंहार दिवसJallianwala Bagh Massacre
14 अप्रैल डॉ बी आर अम्बेडकर जयंती
राष्ट्रीय अग्निशमन सेवा दिवस
बैशाखी (13 या 14 अप्रैल प्रति वर्ष)
B.R. Ambedkar Remembrance Day (Ambedkar Jayanti)
National Fire Service Day
Baisakhi Day (13 or 14 April)
17 अप्रैल विश्व हीमोफीलिया दिवसWorld Haemophilia Day
18 अप्रैल विश्व विरासत दिवसWorld Heritage Day
19 अप्रैल विश्व यकृत दिवसWorld Liver Day
21 अप्रैल राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवसNational Civil Service Day
22 अप्रैल विश्व पृथ्वी दिवसWorld Earth Day
23 अप्रैल विश्व पुस्तक और कॉपीराइट दिवस
अंग्रेजी भाषा दिवस
World Book and Copyright Day
English Language Day
24 अप्रैल राष्ट्रीय पंचायतीराज दिवसNational Panchayati Raj Day
25 अप्रैल विश्व मलेरिया दिवसWorld Malaria Day
26 अप्रैल विश्व बौद्धिक संपदा दिवसWorld Intellectual Property Day
28 अप्रैल विश्व कार्यस्थल स्वास्थ्य व सुरक्षा दिवसWorld Day for Safety and Health at work
30 अप्रैल विश्व पशु चिकित्सा दिवस (अप्रैल माह का आखिरी शनिवार
प्रति वर्ष)
World Veterinary Day (Last Saturday of April)
अप्रैल माह के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय दिवस

Short notes on Important Days in April 2022 in Hindi

Table of Contents

1 अप्रैल- ओडिशा स्थापना दिवस/ उत्कल दिवस

पूरे ओडिशा में प्रत्येक वर्ष 1 अप्रैल को ओडिशा दिवस मनाया जाता है। इसे ‘उत्कल दिवस’ के नाम से भी जाना जाता है।

1 अप्रैल 1936 को देश में प्रथम बार भाषा आधारित राज्य के तौर पर उत्कल राज्य का गठन हुआ था। इस प्रांत के गठन होने के बाद से ओडिशा अपनी समृद्ध कला, संस्कृति, साहित्य, भाषा एवं पर्यटक स्थलों के लिए पूरे विश्व में अपनी एक अलग पहचान बनाने में सफल हुआ है।
अतः, 1 अप्रैल 1936 को अलग प्रांत होने की याद में प्रति वर्ष ओडिशा में उत्कल दिवस मनाया जाता है।

1 अप्रैल- अंधेपन की रोकथाम सप्ताह (1 से 7 अप्रैल)

यह दिवस अप्रैल के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। यानी कि 1 अप्रैल से लेकर 7 अप्रैल तक। दृष्टि हीनता के प्रति लोगों को जागरूक करना है ही इस दिवस का उद्देश्य है।

1 अप्रैल- अप्रैल फूल्स डे (मूर्ख दिवस )

‘April Fool’s Day’ Fool अंग्रेजी का एक शब्द है। इसका अर्थ होता है ‘मूर्ख’। ‘मूर्ख दिवस’ कई सदियों से मनाया जा रहा है। और इसकी शुरुआत कब हुई यह भी अनिश्चित है। 18 सो 52 में पहली बार मूर्ख दिवस मनाया गया था। ऐसा कुछ इतिहासकारों का मानना है।

इस दिन हंसने- हंसाने के लिए,एक दूसरे को मूर्ख बनाते हैं। क्योंकि हँसने के कई शारीरिक और मानसिक फ़ायदे हैं।

2 अप्रैल- विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस

विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस क्यों मनाया जाता है ? इसे जानने से पहले हमें यह जानना होगा कि ऑटिज्म आखिर होता क्या है ?

ऑटिज्म एक प्रकार का मानसिक विकार है। जिसमें बच्चे का मस्तिष्क का विकास बाधित हो जाता है। जिससे उसका विकास अन्य सामान्य बच्चों की तरह नहीं हो पाता है। और किसी भी प्रकार के दैनिक कार्यों के लिए उन्हें अन्य व्यक्तियों पर निर्भर होना पड़ता है।

अतः लोगों को इस गंभीर विकार से जुड़ी समस्याओं और निदान के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए, संयुक्त राष्ट्र संघ प्रत्येक वर्ष 2 अप्रैल को यह दिवस मनाने की घोषणा की थी।

4 अप्रैल- अंतर्राष्ट्रीय खदान जागरूकता दिवस

खदानों से निकाले गए खनिज,कोयला एवं अयस्क, आज हमारे विकास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। पर इनके खनन के दौरान होने वाले सुरक्षा और स्वास्थ्य समस्याओं के बारे लोगों को बताना और उसका निदान निकालना इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है।

5 अप्रैल- राष्ट्रीय समुद्री दिवस

इतिहास में भारत विश्व व्यापार का मुख्य केंद्र रहा है। 5 अप्रैल 1919 को भारत से पहला भारतीय समुद्री जहाज मुंबई से ब्रिटेन की यात्रा पर रवाना हुआ था।

उसी की याद में प्रत्येक वर्ष 5 अप्रैल को राष्ट्रीय समुद्री दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 5 अप्रैल सन 1964 को हुई थी।

आज भारतीय जहाजरानी उद्योग, भारत की अर्थव्यवस्था के विकास में एक अहम भूमिका निभा रहे हैं। उन्हीं की विकासशील गतिविधियों से लोगों को अवगत कराना है इस दिवस का उद्देश्य है।

7 अप्रैल- विश्व स्वास्थ्य दिवस

विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा 7 अप्रैल 1950 को विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने की शुरुआत की गई थी।

इस दिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा कई कई प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। और इन कार्यक्रमों के द्वारा लोगों को अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने और उसकी महत्ता को समझने के लिए जागरूक किया जाता है।

10 अप्रैल- विश्व होम्योपैथी दिवस

होम्योपैथी चिकित्सा प्रणाली के जनक डॉ. क्रिश्चन फ्रेडरिक सैमुएल हैनिमैन को माना जाता है। उनका जन्म 10 अप्रैल 1975 को जर्मनी में हुआ था।

इस चिकित्सा प्रणाली की खोज उन्होंने 18वीं सदी के अंत के दशक में की थी। उन्हीं की याद में प्रत्येक वर्ष 10 अप्रैल को विश्व होम्योपैथी दिवस मनाया जाता है।

होम्योपैथी चिकित्सा प्रणाली के द्वारा स्वास्थ्य लाभ किए लोगों को याद किया जाता है। और इसके प्रचार-प्रसार के लिए इस दिन का आयोजन होता है। तथा इससे जुड़े चिकित्सा के लाभ से भी लोगों को रूबरू कराया जाता है।

10 अप्रैल- सिबलिंग दिवस

भाई-बहन के प्रेम को हर्ष के साथ मनाने के लिए, ‘सिबलिंग दिवस’ दिवस प्रत्येक वर्ष 10 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिवस विश्व के कई देशों में जैसे कि लंदन, ऑस्ट्रेलिया आदि में मनाया जाता है। हमारे देश में तो रक्षाबंधन भाई-बहन के प्रति एक विशेष प्रेम संबंध को दर्शाने का एक पर्व है।

11 अप्रैल- राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस

व्हाइट रिबन अलायन्स (WRA) एक गैर सरकारी एवं गैर लाभकारी संगठन है। जिसका उद्देश्य विश्व स्तर पर मातृ एवं नवजात मृत्यु को कम करना है। इसी संगठन के अनुरोध पर, भारत सरकार ने वर्ष 2000 से प्रत्येक वर्ष 11 अप्रैल को ‘राष्ट्रीय सुरक्षित मातृत्व दिवस’ मनाने की घोषणा की थी। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य सुरक्षित मातृत्व के संबंध में लोगों को जागरूक करना है।

13 अप्रैल- जलियांवाला बाग नरसंहार दिवस

बात उस समय की है जब ब्रिटिश सरकार ने रोलेट एक्ट लागू कर दिया था। इस अधिनियम के विरोध में व्यापक प्रदर्शन हुए थे। और 9 अप्रैल 1919 को रौलट एक्ट के विरोध करने के आरोप में पंजाब के दो नेताओं डॉ सत्यपाल और सैफुद्दीन किचलू को गिरफ़्तार कर लिया था। इनकी गिरफ्तारी के विरोध में 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग में एक सभा का आयोजन किया था।

इसे जनरल दायर ने अपने आदेश की अवहेलना माना। और सभा कर रहे लोगों पर गोली चलाने का आदेश दे दिया। इससे सैकड़ों लोग मारे गए थे। इस दिन की बरसी पर प्रत्येक वर्ष 13 अप्रैल को जलियांवाला बाग नरसंहार बरसी मनाया जाता है।

14 अप्रैल- डॉ बी आर अम्बेडकर जयंती

डॉ बी आर अंबेडकर का नाम आते ही हमारे जेहन में भारत का संविधान आ जाता है। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने भारत के संविधान के निर्माण में अहम भूमिका निभाई थी। उनका जन्म 14 अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी सकपाल एवं भीमाबाई की 14वीं संतान रूप में हुआ था।

इन्हीं संविधान निर्माता की याद में अंबेडकर जयंती मनाया जाता है।

14 अप्रैल- राष्ट्रीय अग्निशमन सेवा दिवस

बात सन 1944 की है। जब मुंबई बंदरगाह पर विक्टोरिया डॉक पर एक ब्रिटिश मालवाहक जहाज खड़ी थी। उस ज़हाज़ में भयंकर आग लग गई। और क्या था आग को बुझाने के लिए अग्निशामक कर्मियों ने जी तोड़ मेहनत की। और इसमें 71 अग्निशामक कर्मियों की जान चली गई।

उन्हीं की याद में हर वर्ष 14 अप्रैल को राष्ट्रीय अग्निशमन दिवस मनाया जाता है। इस दिन अग्निशमनकर्मी, लोगों को आग को सूझबूझ के साथ प्रयोग करना अन्यथा इससे होने वाले नुकसान के प्रति लोगों को जागरूक भी करते हैं।

14 अप्रैल- बैशाखी

नए फसल की कटाई के अवसर पर प्रत्येक वर्ष 13 अप्रैल या 14 अप्रैल को पंजाबी समुदाय के द्वारा वैशाखी मनाया जाता है। इस दिन को सिख समुदाय के लोग नूतन वर्ष के रूप में भी मनाते हैं। इसे हमारे देश के अलग-अलग प्रांत अलग-अलग नाम से भी जाना जाता है जैसे असम में इसे बिहू, पश्चिम बंगाल में नबबर्ष आदि।

17 अप्रैल- विश्व हिमोफीलिया दिवस

हीमोफीलिया एक प्रकार का शारीरिक विकार है। जिसमें रक्त में सामान्य रूप से थक्के नहीं बन पाते हैं। क्योंकि इसमें ‘क्लोटिंग फैक्टर’ (Clotting Factor ) नामक प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होता है। अतः वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ हिमोफिलिया (WFH) के द्वारा 17 अप्रैल 1989 को विश्व हिमोफीलिया दिवस की शुरुआत की गई थी।

18 अप्रैल- विश्व विरासत दिवस

कहते हैं भविष्य की नींव इतिहास पर होती है। और हमारे पूरे विश्व में कई ऐतिहासिक धरोहर हैं। इनकी सुरक्षा एवं संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करना ही इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है। इसकी स्थापना यूनेस्को की जनरल असेंबली द्वारा 1983 में की गई थी। तभी से प्रत्येक वर्ष 18 अप्रैल को विश्व विरासत दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस दिन को ‘विश्व धरोहर दिवस’ के नाम से भी जानते हैं।

यह भी जानें- भारत में कुल कितने स्थलों को विश्व धरोहर घोषित किये गए हैं?

19 अप्रैल- विश्व यकृत दिवस

पूरे विश्व में 19 अप्रैल को यकृत यानि लीवर (Liver) से संबंधित रोगों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए ‘विश्व यकृत दिवस’ मनाया जाता है।

यकृत हमारे शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग है। यकृत हमारे शरीर में कई प्रकार के कार्य करता है। जैसे संक्रामक बीमारियों से निपटना कोलेस्ट्रॉल तथा ब्लड शुगर को नियंत्रित करना और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने जैसे अहम कार्य करता है।

21 अप्रैल- राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस

प्रत्येक वर्ष 21 अप्रैल को ‘राष्ट्रीय सिविल सेवा दिवस’ का आयोजन किया जाता है। इसमें लोक प्रशासन से संबंधित अधिकारी अपने आप को आम जनता की भलाई के लिए पुनः समर्पित करते हैं। देश के विभिन्न हिस्सों से लोक प्रशासन अधिकारी इकट्ठा होते हैं। और अपने अनुभव और चुनौतियों को एक दूसरे के साथ साझा करते हैं।

22 अप्रैल- विश्व पृथ्वी दिवस

हर साल 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। पूरे ब्रह्मांड में पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है। जहां जीवन पाया जाता है। अतः हमारी पृथ्वी में उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों का उचित और संतुलित उपयोग करना चाहिए। इस दिन ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण आदि से उत्पन्न समस्याओं के प्रति लोगों को जागरूक करने का दिन होता है।

23 अप्रैल- विश्व पुस्तक एवं कॉपीराइट दिवस

विश्व पुस्तक दिवस का आयोजन मुख्य रूप से लोगों में पुस्तकों के पठन और प्रकाशन तथा कॉपीराइट के महत्व को चिन्हित करने और उन्हें प्रचारित करने के लिए किया जाता है।

23 अप्रैल- अंग्रेजी भाषा दिवस

यह दिवस अंग्रेजी भाषा के महान साहित्यकार विलियम शेक्सपियर के जन्मदिन पर मनाया जाता है। विश्व भर के 195 देशों में से 67 देशों में अंग्रेजी भाषा का प्रयोग किया जाता है।

24 अप्रैल- राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस

24 अप्रैल, 1993 को संविधान में 73वां संशोधन किया गया। तब से उस दिन को ‘राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस’ के तौर पर मनाया जाता है।

25 अप्रैल- विश्व मलेरिया दिवस

यूँ तो, मलेरिया दिवस 2001 से ही अफ्रीका की सरकार द्वारा ‘अफ्रीका मलेरिया दिवस’ के रूप में मनाया जाता था। लेकिन 2007 में वर्ल्ड हेल्थ असेंबली ने अपने 60 वें अधिवेशन में इसे वैश्विक स्तर पर मनाने का फैसला किया। और 25 अप्रैल को ‘विश्व मलेरिया दिवस’ के रूप में घोषित किया।

26 अप्रैल- विश्व बौद्धिक संपदा दिवस

World Intellectual Property Day की शुरुआत ‘विश्व बौद्धिक संपदा संगठन’ (World Intellectual Property Organization (WIPO) द्वारा किया गया था। इसका आयोजन मुख्य रूप से निर्मित वस्तुओं पर पेटेंट, ट्रेडमार्क, कॉपीराइट तथा डिजाइन इत्यादि के प्रभाव के बारे में लोगों को जागरूक करना है।

28 अप्रैल- विश्व कार्यस्थल स्वास्थ्य व सुरक्षा दिवस

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के द्वारा 2003 से ही प्रत्येक वर्ष 28 अप्रैल को यह दिवस मनाया जाता रहा है। इसका उद्देश्य कार्यस्थल पर सुरक्षा और कार्य के द्वारा मानव शरीर और जीवन पर स्वास्थ्य प्रभाव के प्रति आम जनता को जागरूक करना है।

30 अप्रैल- विश्व पशु चिकित्सा दिवस

विश्व पशु चिकित्सा दिवस का आयोजन अप्रैल माह के आखिरी शनिवार को किया जाता है। इसलिए ‘विश्व पशु चिकित्सक दिवस’ का कोई निर्धारित तिथि नहीं है।

‘वर्ल्ड वेटरिनरी डे’ की शुरुआत ‘विश्व पशु चिकित्सा संघ’ यानी वर्ल्ड वेटरनरी एसोसिएशन (World Vetrinary Association) द्वारा की गई थी। इसका 37वां कांग्रेस 29 – 30 मार्च को अबू-दबी, संयुक्त अरब अमीरात में संपन्न हुआ।

इस दिवस का उद्देश्य पशु स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देना है।और पशु चिकित्सकों के योगदान को उजागर कर लोगों को जागरूक करना है।

क्या आप जानते हैं:

  1. विश्व मलेरिया दिवस की घोषणा से पहले ही इस देश में मनाया जाता था Malaria Day.

2. विश्व पृथ्वी दिवस की शरुआत कैसे हुई।

यह आर्टिकल, अप्रैल के प्रमुख दिवस ( List of Important Days in April in Hindi) आपके लिए ज़रूर सहायक होंगे।

सामान्य तौर पर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.